मोहब्बत के रास्ते

मोहब्बत के रास्ते कितने भी मखमली क्युँ न हो…

खत्म तन्हाई के खंडहरों में ही होते है…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.